सात वर्षों से ग्रामीण पर्यटन से रोजगार सृजन हेतु कड़ी मेहनत के बाद तौल्यूं गांव में ओम बहुगुणा का नायाब विलेज़ रिसोर्ट तैयार !

0
443

सात वर्षों से ग्रामीण पर्यटन से रोजगार सृजन हेतु कड़ी मेहनत के बाद तौल्यूं गांव में ओम बहुगुणा का नायाब विलेज़ रिसोर्ट तैयार !
भास्कर द्विवेदी,जागो ब्यूरो रिपोर्ट:

ग्रामीण पर्यटन से स्वरोजगार पैदा करने का जुनून और उस जुनून के पीछे की सात वर्ष की कड़ी मेहनत का फल,आज पर्यटन स्थल खिर्सू से पाँच किलोमीटर की दूरी पर स्थित मरखोला ग्राम पंचायत के राजस्व ग्राम तौल्यूं के युवा ओम बहुगुणा के विलेज रिसोर्ट के रूप में साकार हो गया है!आज उनके द्वारा तौल्यूं गाँव में बनाये गये विलेज रिजॉर्ट अथवा होम स्टे में काम कर रहे गाँव के युवाओं,आर्गेनिक खेती-किसानी कर रहे काश्तकारों,पशुपालकों और स्थानीय वाहन संचालकों को इससे सीधा रोज़गार मिल रहा है !

लेकिन इसके पीछे ओम बहुगुणा की सात वर्ष की कड़ी मेहनत है,जिसका उद्देश्य भी यही था कि कैसे ग्रामीण परिवेश में पर्यटन से रोज़गार पैदा किया जाये?आप यहां आकर देख सकते हैं कि ओम ने कैसे लक्जरी रूम सुविधाओं में पहाड़ी लुक के साथ,आर्गेनिक खेती से उत्पन्न शुद्ध पहाड़ी अनाज व सब्जियों व घर के मसालों से बने व्यंजनों को पर्यटकों को परोसकर एवं एंडवेंचर टूरिज्म के साथ जंगल कैंपिंग एवं हिमालय की दर्शनीय चोटियों के वृहद दर्शन और आसपास का रमणीय दृश्य को जोड़कर पर्यटकों के लिये अदभुत आकर्षणों की एक श्रृंखला तैयार की है !

यदि आप मैट्रो शहरों और भीड़ भाड़ वाले पर्यटन स्थलों से ऊब चुके हैं,तो आप एक बार इस खुबसूरत ग्रामीण पर्यटक स्थल पर जरूर आयें,यहां पहुंचने के लिए आप ऋषिकेश से श्रीनगर से होते हुए बुघाणीं सड़क मार्ग से होते हुए हुलाकीखाल बस स्टैंड पर गाड़ी खड़ी करके 500 मीटर की दूरी पर पैदल ट्रेकिंग से पहुंच सकते हैं या ऋषिकेश-देवप्रयाग सड़क मार्ग से पौड़ी-बुवाखाल- चौबट्टा-खिर्सू सड़क मार्ग से हुलाकी खाल बस स्टैंड में पहुंच सकते हैं या कोटद्वार-सतपुली बुवाखाल मोटर मार्ग से भी आसानी से पहुंचा जा सकता है, ग्रामीण इलाकों के लोगों को पर्यटन से स्वरोजगार उत्पन्न करने को प्रोत्साहित करने की इस मुहिम को बढ़ावा देने हेतु आप ऐसे जुनूनी युवाओं का सहयोग कर सकते हैं।अधिक जानकारी हेतु संपर्क करें..
ओम बहुगुणा -9997342790,
योगिन्द्र रावत-8279518848

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY