सर्दियों में धधक रहे उत्तराखण्ड के जंगल, कई हेक्टेयर वन संपदा जलकर खाक

0
10

-कुमाऊं के अल्मोड़ा व गढ़वाल मंडल में उत्तरकाशी में आग ने धारण किया विकराल रूप
-प्रदेश में अब तक 50 से ज्यादा आग की घटना हो चुकी

देहरादून । सर्दियों के मौसम में प्रदेश के कई इलाकों में जंगल धधक रहे हैं। गढ़वाल हो या कुमाऊं दोनो मंडलों में 50 से अधिक आग की घटना हो चुकी है। हालांकि प्रशासन आग की घटनाओं पर नजर बनाए हुए है लेकिन फिर दिन प्रतिदिन जंगल धधकते जा रहे हैं।
कुमाऊं के पहाड़ी जिलों में पहली बार नवम्बर महीने में जंगलों आग लगने की घटनाएं सामने आ रही हैं। अल्मोड़ा जिले की बात करें तो रानीखेत के चैबटिया के जंगल बीते कई दिनों से धधक रहे हैं। अल्मोड़ा नगर के आस पास के जंगल पहले ही जल चुके हैं। जबकि, पिछले पखवाड़े में अल्मोड़ा के जौरासी रेंज के जगलों में आग से कई हेक्टेयर की वन संपदा खाक हो चुकी है। अल्मोड़ा वन प्रभाग के डीएफओ महातिम यादव का कहना है कि लंबे समय से बारिश नहीं हुई है। इस कारण दिन की तेज धूप से जंगलों में आग लगने की घटनाएं बढ़ रही हैं। उनका कहना है कि अल्मोड़ा वन प्रभाग के अंतर्गत करीब 61 हजार हेक्टेयर आरक्षित वन क्षेत्र हैं। तकरीबन इतना ही क्षेत्रफल सिविल और वन पंचायत के जंगलों का है। उनका कहना है आग की घटनाएं सभी जगह सामने आ रही है, लेकिन आरक्षित वन क्षेत्र में उनका फील्ड स्टाफ मौजूद रहता है। इस कारण आग को जल्द बुझा दिया जाता है, लेकिन सिविल वन क्षेत्र व वन पंचायत के जंगलों में जनता का सहयोग अपेक्षित रहता है।उन्होंने बताया कि उनकी ओर से स्टाफ को आग की घटनाओं को लेकर अलर्ट किया गया है। अल्मोड़ा वन प्रभाग के अंतर्गत अभी तक 2 हेक्टेयर आरक्षित वन जल चुके हैं। सिविल व वन पंचायत का अभी आकलन नहीं हो पाया है।
वहीं, पुरोला में सप्ताहभर से सुलग रहे जंगलों की आग अब विकराल रूप धारण करने लगी है। मंगलवार सुबह आग तहसील मुख्यालय मोरी के पास पहुंच गई। तहसील मुख्यालय से लगे जंगलों में आग पहुंचने से लोग दहशत में हैं। व्यापारी नेता पूर्व भाजपा जिला महामंत्री राजेंद्र रावत ने बताया कि आग मोरी कस्बे तक पहुंच गई है। वनकर्मी मौके पर आग बुझाने में लगे हुए है। ग्रामीणों ने बताया कि क्षेत्र के करीब 10 हेक्टेयर वन क्षेत्र में आग फैली है। रविवार रात को जंगल में लगी आग सरांस गांव के बिंद्री तोक में सरदार सिंह चैहान के मकान तक पहुंच गई। आग देखकर परिवार के लोग घबरा गए। उन्होंने आग की सूचना नायब तहसीलदार बीएल शाह को दी। तहसीलदार राजस्व पुलिस और वन विभाग की टीम के साथ मौके पर पहुंचे और ग्रामीणों की मदद से बमुश्किल आग पर काबू पाया। ग्रामीणों ने बताया कि क्षेत्र के जंगल हफ्तेभर से धधक रहे हैं। हालांकि वन विभाग के कर्मचारी आग बुझा रहे हैं, लेकिन आग दोबारा दूसरी जगह सुलग रही है। डीएफओ सुबोध काला का कहना है कि अक्तूबर माह में टौंस वन प्रभाग 12.10 हेक्टेयर वन क्षेत्र में आग की 19 घटनाएं हो चुकी है।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY