उत्तराखण्ड श्रम विभाग की बेशर्मी को कोटद्वार से पूर्व विधायक शैलेंद्र रावत ने ताला तोड़कर किया उजागर!..

0
255

उत्तराखण्ड श्रम विभाग की बेशर्मी को कोटद्वार से पूर्व विधायक शैलेंद्र रावत ने ताला तोड़कर किया उजागर!..

भाष्कर द्विवेदी जागो ब्यूरो रिपोर्ट:

उत्तराखण्ड के श्रम विभाग का भ्रष्टाचार पूरे उत्तराखण्ड राज्य के बच्चे बच्चे की जुबान पर है और विभागीय मन्त्री द्वारा जिस तरह से श्रम विभाग से अपनी पूत्रवधू के एनजीओ को धन आबंटन और विभागीय योजनाओं का लाभ पहुंचाया गया था,वो भी विगत वर्षों में चर्चा का विषय बना हुआ था,पूरे उत्तराखण्ड राज्य में और अभी कुछ दिनों पहले राजधानी देहरादून से करोड़ों रुपए की जंग खा रही साइकिलों का मामला ठंडा भी नहीं हुआ था कि पुनः यमकेश्वर विधानसभा क्षेत्र भ्रमण पर निकले काँग्रेस पार्टी के कद्दावर नेता और पूर्व भाजपा विधायक कोटद्वार शैलेन्द्र रावत ने लोक निर्माण विभाग के ऑफिस लक्ष्मण झूला में सड़ रही श्रम विभाग की राशन,लाखों रुपये के कम्बल,सेनेटाइजर,साबुन जिसको कोरोना काल मे गरीबों में बाँटा जाना था,उसको लोक- निर्माण विभाग के आफिस से ताला तोड़कर सार्वजनिक किया!आपको बताते चलें कि इस प्रकरण पर बहुत दिनों से चर्चाएं चल रही थी कि आगामी विधानसभा चुनाव में वर्तमान विधायक यमकेश्वर वोट खरीदने के लिये जरूरत मंदों के हक और जरूरतों को कैद किया जा चुका है,जिसकी आख़िर पोल खुल गयी,आखिर सवाल पैदा होता है कि गरीबों के राहत कोष का तरह यह समान वर्तमान विधायक यमकेश्वर और उसके चहेतों ने इस तरह से छिपाकर और गरीबों का हक़ मारकर सड़ा दिया!देखना होगा कि इस मामले में जिला प्रशासन या उत्तराखण्ड सरकार कोई कार्रवाई करेगी या नहीं?क्या लोकनिर्माण विभाग से स्पष्टीकरण माँगा जायेगा या कोई उचित कार्रवाई होगी?आपको बताते चलें कि करीब एक साल से विधायक यमकेश्वर और भाजपा के कार्यकर्ताओं का कब्जा इस गेस्ट हाउस पर बना हुआ था और सम्बंधित विभाग आंखें मूंद कर सोया हुआ था ।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY