मुख्यमन्त्री का टिहरी से सौतेला व्यवहार क्यों?

0
619
क्या उत्तरा पन्त विवाद और टिहरी के एक नागरिक द्वारा झाम्पू बडा गाना बनाने के कारणों मुख्यमन्त्री के दिल में है टिहरी जनपद के लिये कड़वाहट?

मुख्यमन्त्री का टिहरी से सौतेला व्यवहार क्यों?

गौरव तिवारी,जागो ब्यूरो रिपोर्ट:

उत्तराखण्ड के मुख्यमन्त्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत द्वारा टिहरी से सौतेला व्यवहार जारी है, 1 अगस्त 2018 को जब धुमाकोट के पास बस दुर्घटना हुई थी, तो मुख्यमन्त्री द्वारा तत्काल सभी मृतकों को 2 लाख रुपए व घायलों को 50 हजार रुपए की आर्थिक मदद दी गयी थी व सारा इलाज क़ा खर्च सरकार द्वारा उठाने की घोषणा की गयी थी

क्या उत्तरा पन्त विवाद और टिहरी के एक नागरिक द्वारा झाम्पू बडा गाना बनाने के कारणों मुख्यमन्त्री के दिल में है टिहरी जनपद के लिये कड़वाहट?

परंतु आज टिहरी जिले में मदननेगी-कंगसाली के पास 9 बच्चों की मौत व 9 बच्चों के घायल होने पर भी मुख्यमन्त्री केवल संवेदना व्यक्त कर के चले गये! मुख्यमन्त्री का टिहरी जिले से सौतेला व्यवहार नया नहीं है मुख्यमन्त्री ने हाल ही में टिहरी से एनसीसी अकादमी को पौड़ी जिले में शिफ्ट किया है, जिसके खिलाफ लगभग एक महीने से हिण्डोलाखाल में धरना जारी है । “क्या मुख्यमन्त्री टिहरी से उत्तरा पंत बहुगुणा जो कि मूल रूप से टिहरी जिले की रहने वाली हैं के द्वारा मुख्यमन्त्री दरबार में हुए वाकये क़ा बदला ले रहे हैं या झान्पू बडा गाना गाने वाले पवन सेमवाल के टिहरी मूल से होने क़ा बदला लें रहे हैं” ? 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here