“जागो उत्तराखण्ड”पर पीएमजीएसवाई काण्डा मल्ला सड़क पर घटिया पेंटिंग,सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो और सीएम के जाँच के आदेश की एक्सक्लूसिव पड़ताल..

0
258
“जागो उत्तराखण्ड”पर पीएमजीएसवाई काण्डा मल्ला सड़क पर घटिया पेंटिंग,सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो और सीएम के जाँच के आदेश की एक्सक्लूसिव पड़ताल..
पिछले दिनों पौड़ी जनपद के लैन्सडाउन विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत प्रधानमन्त्री ग्रामीण सड़क योजना की सिमड़ी से काण्डा मल्ला करीब पाँच किलोमीटर रोड पर घटिया पेंटिंग के सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो जिसे एक स्थानीय नवयुवक ने बनाया था,पर उत्तराखण्ड के मुख्यमन्त्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने जाँच के आदेश दे दिये थे,यह सड़क लैन्सडाउन-रिखणी खाल-बीरोंखाल/धुमाकोट मुख्य सड़क से सिमड़ी नाम की जगह से बनायी गयी है,शायद ये अपने तरह का पहला मामला है जिसमें मुख्यमन्त्री ने सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो पर ही जाँच के आदेश दे दिये हैं(मुख्यमंन्त्री का स्टेटमेंट साभार: पंजाब केसरी न्यूज़ पोर्टल)अमूमन मुख्य मीडिया पर दिखाई गयी खबरों को भी सरकार बहुत ज्यादा गंभीरता से नहीं लेती,क्या ये समझा जाये कि मुख्यधारा का मीडिया भी सोशल मीडिया की ताक़त के सामने बौना साबित हो रहा है?जँहा एक ओर सोशल मीडिया दूरदराज़ मुख्यधारा के मीडिया की नजरों से दूर जनसमस्याओं को उठाने का प्रमुख अस्त्र साबित हो रहा है,वंही मुख्य धारा के मीडिया की तरह उस पर भी पीत पत्रकारिता और पेड न्यूज़ का काला साया भी मंडरा रहा है,कंही ऐसा न हो कि सोशल मीडिया जो समाज की जनहित की समस्याओं को सार्वजनिक मंच से उठाने के लिये एक वरदान के रूप में काम कर रहा है,वह भी मुख्यधारा के मीडिया की तरह पीत पत्रकारिता और पेड न्यूज के असर के चलते “भेड़िया आया-भेड़िया आया”कहानी की तरह एक दिन दंतहीन हो जाये,”जागो उत्तराखण्ड”की इस एक्सक्लूसिव पड़ताल में स्थानीय ग्रामीण और सड़क पर काम कर रहे लोगों से बातचीत के माध्यम से सड़क पर घटिया पेंटिंग की सच्चाई और सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो की हक़ीक़त जानने की कोशिश की गयी,जिसमें ये बात भी निकल कर आयी कि सड़क निर्माण में ग्रामीणों के खेत तो काट दिये गये लेकिन ग्रामीणों को भूमि का मुवावजा भी नहीं दिया गया,आप भी देखिये अपने तरह के इस अनोखे मामले पर “जागो उत्तराखण्ड” की यह एक्सक्लूसिव पड़ताल..
https://youtu.be/-jmlVkGA_ek

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY