सीएम त्रिवेन्द्र के गाँव के नीचे नयार में चलेगा राफ्टिंग और कयाकिंग का चप्पू!

0
426

सीएम त्रिवेन्द्र के गाँव के नीचे नयार में चलेगा राफ्टिंग और कयाकिंग का चप्पू!
जागो ब्यूरो रिपोर्ट:

उत्तराखण्ड के पौड़ी जिलेे को एडवेंचर स्पोर्ट्स लवर्स के लिये राफ्टिंग,कयाकिंग/केनोइंग,पैराग्लाइडिंग, माउंटेन बाइकिंग,साइकिलिंग,बंजी जम्पिंग आदि एडवेंचर स्पोर्ट्स हब के रूप में विकसित करने के प्रयास हो रहे हैं,जिले के पर्यटन विभाग और प्रशासन के सहयोग से उत्तराखण्ड की प्रसिद्द एडवेंचर स्पोर्ट्स एक्स्पर्ट,फाउंडर एंड मैनेजिंग डारेक्टर- माई एडवेंचर क्लब(मैक) शिवानी गुसाईं की टीम ने सीएम त्रिवेन्द्र के गाँव खैरासैंड से लेकर बांघाट तक राफ्टिंग और कयाकिंग का ट्रायल किया जो सफल रहा, ट्रायल में सत्रह युवा शामिल रहे

उत्तराखण्ड का पौड़ी शहर,यँहा से हिमालय के वृहदतम दृश्य के कारण “पहाड़ों का राजा” उपमा से सुशोभित किया जाता है,जिले के खिर्सू,लैंसडाउन, स्वर्गाश्रम मुख्य पर्यटक स्थल हैं,तो जिले में बिन्सर महादेव, ताड़केश्वर,सिद्द बलि मन्दिर, शक्तिपीठ धारी देवी और ज्वाल्पा देवी समेत कई धार्मिक आस्था के केन्द्र भी मौजूद हैं और अब जिले में एडवेंचर स्पोर्ट्स के विकल्पों की भी तलाश हो रही है,जो पौड़ी जिले में युवा और जोशीले सैलानियों को खींचने में मील का पत्थर साबित हो सकती है!इसी सोच के साथ पौड़ी जिले में सतपुली नयार नदी में जहां राफ्टिंग,कयाकिंग/केनोइंग का भविष्य तलाशा जा रहा है,तो वहीं जिले के कई अन्य स्थानों में पैराग्लाइडिंग,ट्रैकिंग, साइकिलिंग,माउंटेन बाइकिंग की संभावनाओं को भी तलाशा जा रहा है, कोरोना काल में साढ़े तीन लाख से ज्यादा लोग राज्य में लौटे हैं,जिसमें सबसे ज्यादा संख्या पौड़ी जनपद के लोगों की है,ऐसे में सरकार भी पर्यटन के माध्यम से लोगों को रोज़गार दिलवाना चाहेगी,लेकिन बिना पर्यटन व्यवसायियों और राज्य से बाहर रहने वाले उत्तराखण्ड मूल के ट्रेवल एजेंट्स और टूर ऑपरेटर्स से समन्वय किये,पूर्व की तरह इन प्रयासों के धरातल पर उतरने में अभी भी सन्देह है!कि कंही ये योजनायें फलीभूत होने के बजाय,”पर्यटन से रोज़गार” के नाम पर,करोड़ों का फंड ठिकाने लगा,महज सरकारी आंकड़ों की बाज़ीगरी साबित न हो!

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY