“आप” प्रदेश प्रवक्ता आशुतोष नेगी ने आयुक्त कार्यालय पर नियमविरुद्ध पदोन्नति/सबद्ध करने के लगाये आरोप..

0
473

“आप” प्रदेश प्रवक्ता आशुतोष नेगी ने आयुक्त कार्यालय पर नियमविरुद्ध पदोन्नति/सबद्ध करने के लगाये आरोप..

जागो ब्यूरो रिपोर्ट:

“आप” प्रदेश प्रवक्ता आशुतोष नेगी ने आयुक्त कार्यालय पर वैयक्तिक अधिकारी के पदों पर ओमप्रकाश सिंह और चंदन लाल की 15 साल की सेवा पूर्ण होने से पहले ही पदोन्नति कर पद्दोन्नति के नियमों और शासनादेशों का उल्लंघन करते हुए भ्रष्टाचार करने के आरोप लगाए हैं,पूर्व में नियमानुसार वैयक्तिक अधिकारी के पद पर 20 साल की सेवा पूर्ण होने के बाद ही पदोन्नति की जाती रही है !नेगी ने यह भी आरोप लगाया कि आयुक्त द्वारा पौड़ी और उत्तरकाशी में पदोन्नत कर नियुक्त की गयी,दो महिला वैयक्तिक अधिकारियों को भी पदोन्नत करने के उपरांत नियुक्ति के स्थान पर पद भार ग्रहण न करने पर (Forgo)शासनादेश के अन्तर्गत अनुशासनात्मक कार्यवाही और वरिष्ठता का लाभ न देने के बजाय,दोनों को क्रमशः देहरादून और हरिद्वार सबद्ध कर एक बार फिर भी पदोन्नति और Forgo शासनादेश का उल्लंघन किया गया है,उन्होंने आरोप लगाया कि गढ़वाल मण्डल के तीन सुगम जनपदों देहरादून,हरिद्वार और टिहरी में मुख्य वैयक्तिक और वैयक्तिक अधिकारी दोनों तैनात हैं, जबकि पहाड़ी जनपदों पौड़ी, और उत्तरकाशी में जिलाधिकारियों के वैयक्तिक अधिकारी भी उपलब्ध नहीं हैं,जिससे पहाड़ी जनपदों में प्रशासनिक कार्य भी प्रभावित हो रहे हैं,आप प्रवक्ता ने मुख्यमंत्री से अनुरोध किया है कि जिस तरह उन्होंने हाल ही में कमिश्नर कैम्प कार्यालय में छापामारी कर छोटे कर्मचारियों पर कार्यवाही करने से कोई गुरेज़ नहीं किया,उसी तर्ज़ पर जीरो टॉलरेन्स की नीति पर अमल करते हुये आयुक्त कार्यालय द्वारा हुयी इन नियमविरुद्ध नियुक्तियों/सबद्धता पर भी अनुशासनात्मक कार्यवाही करते हुये,जनता के सामने सरकार की ईमानदारी का उदाहरण प्रस्तुत करें।आप प्रवक्ता नेगी ने बताया कि उन्होंने इसकी लिखित शिक़ायत आयुक्त कार्यालय को प्रेषित कर दी है।

उधर “जागो उत्तराखण्ड”द्वारा दूरभाष पर सम्पर्क करने पर आयुक्त रविनाथ रामन ने व्यस्तता का हवाला देते हुये,अपर आयुक्त हरक सिंह से उक्त पदोन्नतियों/सबद्धता बाबत स्पष्टीकरण लेने को कहा,उधर अपर आयुक्त हरक सिंह,पदोन्नतियों/सबद्धता में किसी भी तरह के नियमों की अनदेखी से इनकार कर रहे हैं, अब देखना होगा कि “आप” प्रवक्ता आशुतोष नेगी इस मामले में आगे क्या रुख अपनाते हैं?

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY