टिहरी झील में जल्द मिल सकेगी फ्लाईबोर्ड और क्रूज बोट की भी सुविधा…

0
29

अगर आप रोमांच के शौकीन है तो आपके लिए खुशखबरी है। जी हां अब आपको गोवा भोपाल नहीं जाना होगा, आपको गोवा भोपाल का लुत्फ उत्तराखंड के टिहरी जिले में मिलेगा। टिहरी में एशिया के सबसे बड़े बांध की टिहरी झील में अब पैरासेलिंग, हॉट एयर बैलून, पैराग्लाइडिंग के बाद फ्लाईबोर्ड और क्रूज बोट की सुविधा भी मिलने लगेगी। पर्यटक यहां एडवेंचर का लुत्फ ले सकेंगे। आइए जानते है इसके बारे में पूरी डिटेल्स..

मिली जानकारी के अनुसार अब पर्यटन विभाग और टाडा मिलकर टिहरी झील को विश्व स्तरीय साहसिक गंतव्य बनाने के लिए कार्य करने में जुट हुआ है। जहां कोटी कालोनी में एडवेंचर स्पोर्टस , बोटिंग की सफलता के बाद टाडा (टिहरी विशेष क्षेत्र पर्यटन विकास प्राधिकरण) टिहरी बांध की झील में तीन नए बोटिंग प्वाइंट विकसित कर रहा है।  यहां पर्यटक अगले महीने से आलीशान क्रूज बोट का लुत्फ उठा सकेंगे। वहीं बताया जा रहा है कि टाडा ने टिहरी झील में दो फ्लाईबोर्ड उतारने की निविदा आमंत्रित की है। माना जा रहा है कि इस माह के अंत तक झील में फ्लाईबोर्ड की सवारी कर पर्यटक नए रोमांच का आनंद उठाएंगे।

रिपोर्ट की माने तो जिला पर्यटन विभाग और टाडा झील में फ्लाईबोर्ड उतारने की योजना तैयार है। जहां एक ओर क्रूज बोट की असेंबलिंग का कार्य अंतिम चरण में है। कोटी कालोनी के अलावा डोबरा पुल, पीपलडाली और कोटेश्वर झील में नए बोटिंग प्वाइंट बनाने की कवायद चल रही है तो वहीं विभाग ने 300 वर्ग मीटर क्षेत्रफल की जेटी के लिए भी टेंडर निकाले हैं, जो कोटी कॉलोनी बोटिंग प्वाइंट के विस्तार और नए बोटिंग प्वाइंट पर प्लेटफार्म बनाने के काम आएगी।

गौरतलब है कि बीते एक दशक में टिहरी बांध की झील साहसिक पर्यटन का बड़ा गंतव्य बनकर उभर रहा है यहां वॉटर स्कूटर, स्पीड बोट के बाद टिहरी झील में मरीना, हाउस बोट और पैरासेलिंग गतिविधियां कराई जा रही हैं। वहीं अब पर्यटकों को फ्लाईबोर्ड और क्रूज बोट की सुविधा भी मिल सकेगी. जिससे पर्यटन और रोजगार को बढ़ावा मिलेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here