गढ़वाल मण्डल शताब्दी समारोह में पलायन पर गोष्ठी “खालि होंदा डांडा-कांठा”: पलायन आयोग के अध्यक्ष रहे गायब!

0
411
गढ़वाल मण्डल शताब्दी समारोह में पलायन पर गोष्ठी “खालि होंदा डांडा-कांठा”: पलायन आयोग के अध्यक्ष रहे गायब!
पौड़ी में पलायन पर गोष्ठी
गढ़वाल कमिश्नरी के 50 वर्ष पूर्ण होने पर “सुनैरू गढ़वाल” के रूप में स्वर्ण जयन्ती समारोह के अवसर पर जिला पंचायत सभागार, पौड़ी में पलायन रोकने संबंधी गोष्ठी का आयोजन गढ़वाल आयुक्त डॉ. बी.वी.आर.सी. पुरूषोत्तम की अध्यक्षता में किया गया,गोष्ठी में जनपद के विभिन्न क्षेत्रों से आये पलायन विशेषज्ञों द्वारा अपने विचार व्यक्त किये,गोष्ठी में उत्तराखण्ड रत्न से सम्मानित डॉ. जे.पी.सेमवाल,चकबन्दी आन्दोलन के प्रणेता गणेश सिंह “गरीब”,गाड गंगा अभियान के सचिदानन्द भारती,वरिष्ठ कृषक विद्यादत्त दत्त शर्मा, फीलगुड संस्था के सुधीर सुन्दरियाल पत्रकार/काश्तकार अजय रावत, नील राज,विक्रम सिंह रावत, उद्योगपति राम स्वरूप ममगांई सहित धरातल पर काम कर रहे कई अन्य विशेषज्ञों द्वारा पहाड़ से पलायन को रोकने तथा स्थानीय स्तर पर रोजगार विकसित करने हेतु अपने-अपने विचार रखे गये,डॉ सेमवाल द्वारा पहाड़ से पलायन को रोकने के लिये चार “प” थ्योरी ,जिसमें पानी,प्रकाश, पौधे और पर्यटन पर काम करने की बात पर जोर दिया गया, कमिश्नर गढ़वाल डॉ. पुरुषोत्तम ने भी डॉ. सेमवाल की इस थ्योरी को सराहा और इसका जिक्र गोष्ठी के अन्त में अपने उदबोधन में पहाड़ से पलायन रोकने पर इसी थ्योरी पर काम करने पर जोर देते हुए किया,कुल मिला कर सभी वक्ताओं की इस बात पर सहमति थी,कि पहाड़ में निवेश के इक्छुक निवेशकों को एनआरआई की तर्ज पर सिंगल विण्डो सिस्टम उपलब्ध करवाया जाये,जिससे रिवर्स पलायन के इक्छुक प्रवासी उत्तराखण्डी और निवेशक पहाड़ में ज्यादा से ज्यादा निवेश करने को प्रेरित हों और उन्हें सरकारी मदद के लिये जगह-जगह माथापच्ची न करनी पड़े, रोजगार पैदा हो और पहाड़ के लोगों को पलायन न करना पड़े,इस कार्यक्रम के दौरान पहाड़ से पलायन रोकने को गठित किया गया,ग्राम्य विकास और पलायन आयोग अपना बैनर औऱ प्रोजेक्टर लगा कर महज़ खाना पूरी करता नजर आया,आयोग के अध्यक्ष डॉ. नेगी आज भी पौड़ी में मौजूद नहीं थे,सवाल पैदा होता है कि क्योंकर आयोग के अधिकारियों की मोटी तनख्वाह पर उत्तराखण्ड के लोगों के  धन को बर्बाद किया जा रहा है?क्यों न इस धन का सदुपयोग उत्तराखण्ड के लिये धरातल पर काम कर रहे लोगों और निवेशकों को निवेश में सरकारी मदद के रूप में किया जाय, जिससे धरातल पर काम कर रहे लोग और बड़े स्तर पर काम कर पहाड़ में रोज़गार पैदा कर सकें,कार्यक्रम का प्रभावशाली मंच संचालन गणेश खुगशाल ‘गणी‘, ने अपनी ओजस्वी वाणी से किया।
https://youtu.be/nM685RsqUf0
पलायन की गोष्ठी से भी पलायन आयोग के अध्यक्ष डॉ. नेगी गायब..

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY